Immune System

Immune System – प्रतिरक्षा तंत्र या रोग प्रतिरोधक क्षमता का आज के समय में ध्यान रखना बहुत जरूरी है। रोग प्रतिरोधक क्षमता को अंग्रेजी में Imunity कहा जाता है। मानव  शरीर का इम्यून सिस्टम सूम्क्षजीवों से लड़ने की क्षमता देता है।

इसके कमजोर होने पर Bacteria, Virusआदि सूक्ष्मजीव शरीर पर हावी हो जाते हैं, जिससे हमें बीमारियों का सामना करना पड़ता है। आगे हम आपसे 10 तरीके साझा करेंगे जिस से आप खुद को स्वस्थ रख सकतें है और इन उपायों को करने से आपका प्रतिरक्षा तंत्र पहले से बेहतर कार्य करने लग जाएगा।

विशेषज्ञों द्वारा किए गए अध्ययनों व शोधों को ध्यान में रखकर हम आपसे यह विशेष जानकारी साझा कर रहें हैं। इस  जानकारी में घरेलू उपाय भी बताए गए हैं, जिससे आप महंगी दवाइयों के प्रयोग किए बिना ही अपने Immune System को बेहतर कर सकते हैं। 

 

Immune System > स्वस्थ जीवन शैली को अपनाएं 

जैसा कि आप सभी जानतें है कि Immune System अर्थात प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए कई अच्छी आदतों को जीवन में शामिल करना कितना आवश्यक है।

स्वस्थ जीवन शैली में बुरी आदतों को छोड़कर प्राकृतिक दिनचर्या को अपनाना होगा। जिसमें सुबह जल्दी उठने से लेकर समय पर सोना, खाना, भोजन करना व व्यायाम जैसी आदतें युक्त हैं। इस तरह की स्वस्थ जीवन शैली का प्रतिदिन पालन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता के साथ क्वालिटी ऑफ लाइफ में सुधार भी शीघ्र ही देखने को मिलता है। 

 

  • धूम्रपान व शराब का सेवन न करें

धूम्रपान से फेफड़ों व श्वसन प्रणाली पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है। वहीं दूसरी ओर शराब के सेवन से भी Immune System धीरे धीरे कमजोर पड़ने लगता है। यदि आप पहले धूम्रपान कर रहे थे, लेकिन अभी छोड़ चुके हैं। तो आपको अपने आहार में विटामिन-डी को भी लेना शुरू कर देना चाहिए। इससे श्वास नली और फेफड़ें स्वस्थ हो जाते है और सांस संबंधी बीमारियां भी ठीक हो जाती है।  

  • प्रतिदिन व्यायाम व योग अवश्य करें 

व्यायाम का चुस्त, आकर्षक व मजबूत शरीर प्रदान करने में महत्वपूर्ण योगदान रहता है। इतना ही नहीं योग व व्यायाम से रक्तचाप यानी ब्लड प्रेशर की दिक्कत का भी सलूक हो जाता है। वहीं दूसरी ओर इससे Immune System में सुधार दिखाई देने लगता है। इसके पीछे एक यह कारण भी है कि व्यायाम से शरीर में आक्सीजन की खपत बढ़ जाती है, जिसका प्रतिरक्षा तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता है।

  • अच्छी नींद लें

रोग प्रतिरोधक क्षमता का सीधा संबंध नींद से भी है। अच्छी व गहरी नींद से Immune System बेहतर होता है। एक सामान्य मनुष्य को 24 घंटों में 6 से 7 घंटे की नींद लेना आवश्यक है। 6 घंटे से कम नींद लेने पर शरीर में काॅर्टिसोल हाॅमोन का स्तर बढ़ जाता है। जोकि तनाव और कमजोर प्रतिरक्षा तंत्र का कारण बनता है।  यदि आपको अनिद्रा की समस्या है तो आप व्यायाम शुरू कर दें। इसी के साथ कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ भी हैं जिनका सेवन करने अनिद्रा की समस्या से छुटकारा मिल जाता है।

उदाहरण के लिए –  सोने से आधे या एक घंटे पहले दूध में शहद डालकर लेने से गहरी नींद आती है। बेहतर नींद के लिए आप सोने से पहले गर्म पानी से भी अपने पांव को धो सकते हैं। 

  • फलों व हरी सब्जियों को आहार में शामिल करें

फल व सब्जियों में पोषक तत्व और विटामिन इत्यादि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जिससे हमारी इम्यूनिटी तेजी से बूस्ट होती है। वहीं अगर बात करें फलों की, तो अंगूर, संतरा, नींबू और अम्ब्ला जैसे फलों में विटामिन-सी अन्य फलों की अपेक्षा अधिक होता है। हर विटामिन भिन्न-भिन्न तरीके से शरीर को फायदा पहुंचाता है। जैसे कि विटामिन-सी शरीर में संक्रमण फैलने से रोकता है और विटामिन-ए व विटामिन-इ शरीर में सूजन को ठीक करता है। 

  • तनाव से दूर रहें

विशेषज्ञों द्वारा किए गए कई अध्ययन यह साबित कर चुके हैं कि स्ट्रेस द्वारा मनुष्य मानसिक रूप से बीमार हो जाता है और साथ में उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी प्रभावित होती है। इसलिए Immune System की कोशिकाओं को पहुंचने वाली क्षति को कम करने के लिए तनाव नहीं लेना चाहिए। इसके लिए काम को समय पर समाप्त कर देना चाहिए ताकि काम का तनाव न रहे। योग व संगीत तनाव दूर करने के लिए एक अच्छा विकल्प है।

  • अच्छी तरह से पकाया हुआ मांसाहारी आहार खाएं

नॉन वेजिटेरियन व्यक्तियों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि जब आप बाजार से मीट खरीदकर घर लाते हैं, तो उस पर कई प्रकार के जीवाणु व वायरस भी साथ में ले आते हैं। इसलिए मीट को बनाने से पहले अच्छी तरह से धोना चाहिए। ऐसा करने के बाद भी कई तरह के जीवाणु मीट में रह जाएंगे, ऐसे में मीट को अच्छी तरह पकाने के बाद ही खाना चाहिए।

 

इसे भी पढ़ें:-Memechat App – Make your Memes, and Earn money

 

  • अधिक से अधिक पानी पिएं

अधिक पानी पीना रोधप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का सबसे सरल उपाय है। लेकिन किडनी रोगियों को चिकित्सकों की सलाह के अनुसार बताई गई पानी की मात्रा को ही लेना चाहिए। सही मात्रा में पानी लेने से शरीर के टाॅक्सिन्स मूत्र अथवा पसीने के माध्यम से बाहर निकल जाते हैं। सुबह के समय आप ग्रीन टी भी ले सकते हैं। कमजोर इम्यूनिटी वालों के लिए मात्र पानी पीना ही हल नहीं है। इसके लिए बाकि दिए गए तरीकों पर भी पूरा ध्यान देना होगा। 

  • अलसी, तुलसी और अदरक इत्यादि औषधीय को लें

  • अलसी– अलसी के बीज शरीर में कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम रखते हैं। इन बीजों का ओमेगा-3 एवं एलर्जी सीलियम फैटी एसिड हमें एलर्जी से बचाता है।
  • तुलसी- तुलसी का प्रयोग भी लंबे समय से औषधि के रूप में होता आ रहा है। इसके सेवन से इन्फ्लेमेटरी व वायरल से बचाव हो जाता है। खाली पेट तुलसी के पत्तों का सेवन करना बहुत लाभदायक होता है।
  • सूरजमुखी के बीज– सूरजमुखी के बीजों में मौजूद सेलेनियम शरीर में क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को पुनः ठीक करता है। वहीं विटामिन-सी बाहरी संक्रमण से आपके लिए कवच प्रदान करता है। 
  • हल्दी- हल्दी को एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसमें उपस्थित इंफ्लेमिट्री कंपाउंड हमें प्रत्यूर्जता से लड़ने की शक्ति देता है। इसलिए इसे गर्म दूध में मिला कर पीया जाता है। 
  • अदरक- अदरक में जिंजराॅ व एंटीवायरल प्रचुर मात्रा में होता है, जिससे हमारी इम्यूनिटी बूस्ट होती है। 
  • दालचीनी– दालचीनी पाॅलिफेनाॅल्स से भरपूर होता है, जोकि सर्दी और फ्लू में दवाई की तरह काम आती है। इसके सेवन से फंगल व वायरल से जुड़ी बीमारियों से राहत मिलती है। दालचीनी का प्रयोग में चाय में भी किया जा सकता है। 

 

  •  वजन का संतुलन बनाए रखें

लंबाई के अनुसार वजन का संतुलन बनाए रखना अति आवश्यक है क्योंकि सबसे ज्यादा बीमारियां पेट से ही शुरू होती है। वजन पर नियंत्रण पाने के लिए आपको अपने डाइट प्लान को ठीक करना होगा। डाइट लिस्ट में पौष्टिक आहार को शामिल करना होगा। सुबह उठकर गर्म पानी या ग्रीन टी का सेवन भी काफी फायदेमंद होता है। आवश्यकता से अधिक भार होना प्रतिरक्षा तंत्र को बुरी तरह प्रभावित करता है। इसी के साथ रोज सैर व व्यायाम करें।

 

इसे भी पढ़ें:-PUBG Fir Se?? Seriously ?

 

इसके अलावा चिया सीड्स, दही, अदरक, लहसुन, काली मिर्च, सेब, मछली व आंवला इत्यादि को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। मेटाबॉलिज्म को तेज करने के लिए व्यायाम के साथ साथ सुबह का नाश्ता भी जरूर लें। सुबह का नाश्ता हमारे लिए बहुत जरूरी होता है।

हमें चार घंटे के अंतराल पर कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए। खाने के बाद गुड़ लेने से भी जीवाणुओं से बचाव होता है और मेटाबॉलिज्म तेज होता है। आशा करता हूँ की यह जानकारी आपके बहुत काम आएगी। इस पेज को अपने दोस्तों व परिवार के साथ शेयर करें ताकि वह भी अपने प्रतिरक्षा तंत्र का ख्याल रख पाएं। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *