Hair Fall

Hair Fall ?  यह योगासन रोक सकते हैं आपका बाल झड़ना (hair loss) 

 

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपने शरीर व स्वास्थ्य पर ध्यान ही नहीं दे पाते हैं। वहीं दूसरी ओर धूम्रपान, शराब का सेवन, तनाव और गलत

खाने की आदतों से बीमारियां हमारे शरीर को घेरना शुरू कर देती है। 

ऐसी बीमारियों के अलावा बाल झड़ने (hair fall) की समस्या भी वर्तमान समय में सामान्य हो गई है। पुराने समय में काफी उम्र भीत जाने के बाद

बाल झड़ना (hair loss) शुरू होते थे। लेकिन आज के समय में दूषित वातावरण और अन्य चुनौतियों के कारण काफी कम आयु में ही बाल झड़ना

(hair loss) की दिक्कत देखने में आ रही है। 

Hair Fall ?

 

पुरूषों और महिलाओं दोनो आज के समय में इस समस्या से प्रभावित हैं। इसलिए आज के ब्लाॅग में हम आपसे ऐसे योगासन साझा करने वाले हैं।

जिससे आपको बाल झड़ने (hair fall) की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा। दवाइयों के प्रयोग करने पर कई बार दुष्प्रभावों (side effects) का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन योग एक ऐसा माध्यम है जिससे आपको लाभ ही होगा।

इससे शरीर में रक्त का संचार पहले से बेहतर होना आरंभ हो जाता है।

बताए जाने वाले योगासनों को नियमित रूप से करने पर मस्तिष्क में रक्त प्रवाह (blood flow) अच्छा हो जाता है। जिससे बाल कुछ ही समय में मजबूत और घने हो जाते हैं।

 

इसे भी पढ़ें:- https://moneysarthi.com/future-of-mutual-fund/

 

  • वज्रासन

बालों से जुड़ी कई समस्याएं वज्रासन से दूर हो जाती हैं। वज्रासन बालों के लिए अच्छे हार्मोन्स (good hormones) को नष्ट होने से रोकता है।

इसके अलावा वज्रासन का लाभ आपको बुढ़ापे के समय में भी मिलेगा, क्योंकि इससे शरीर भी मजबूत होता है। 

अधोमुख शवासन की भांति इससे कब्ज की शिकायत भी दूर हो जाती है और शरीर तंदुरुस्त रहता है।

महिलाओं में मासिक धर्म (Menstrual) की अनियमितता से राहत पाने के लिए भी यह योगासन बहुत कारगर सिद्ध होता है।

 

वज्रासन विधि

    • वज्रासन को करने के लिए आप पंजो को पीछे ले जाकर अपने घुटनो की सहायता से बैठ जाएं।
    • इस तरह बैठें की आपके एक पैर का अंगूठा दूसरे पैर के अंगूठे के ऊपर हो।
    • पैर के पंजों पर अपने नितंबों (buttocks) को टिका कर अपने हाथों को घुटनों पर रखें।
    • इस अवस्था में बैठ कर आंखें बंद कर अपनी सांस पर पूरा ध्यान केंद्रित करने का प्रयास कीजिए। 

 

  • उत्तानासन

यदि आपको सूर्य नमस्कार आता है तो इस आसन को करना आपके लिए बच्चों का खेल होगा। यह सूर्य नमस्कार में आने वाला ही एक भाग। 

उत्तानासन में सिर पर पड़ने वाला दबाव रक्त संचार (blood circulation) को तेज कर देता है।

जिससे बालों को जड़े से मजबूती मिलती है। अच्छी नींद आने के साथ आपकी पाचन प्रक्रिया में आने वाली परेशानियों से भी मुक्त हो जाते हैं। 

 

उत्तानासन विधि

  • इस योगासन को करने के लिए खड़े होकर गहरी सांस लीजिए। 
  • उसके बाद सांस को धीरे से छोड़ते हुए नीचे को आराम से झुकें और पैरों को छूने का प्रयास करें।
  • सांस पर नियंत्रण रखते हुए पैरों को पकड़ने की कोशिश करें। 
  • इस अवस्था में सांस को रोके हुए कम से कम 10 सेकंड तक रुकने का प्रयास करें।
  • अंत में वापिस सीधे खड़े होकर इस प्रक्रिया को पुनः दोहराएं।
  • नियमित अभ्यास के बाद आपका पैर छूने वाली मुद्रा में समय अपने आप बढ़ना आरंभ हो जाएगा।

 

इसे भी पढ़ें:-Khud ka Mutual Fund Kaise Banaye ..बहुत सारा पैसा बचा सकते हैं आप !

 

  • उष्ट्रासन

इस आसन में शरीर की मुद्रा एक ऊंट की भांति हो जाती है, इसलिए अंग्रेजी भाषा में इसे Camel Pose या Ustrasana कहते हैं।

इस आसन से बालों का झ़ड़ना कम हो जाता और नए बालों में भी तेजी से वृद्धि होने लगती है।

रीढ़ की हड्डी में लचीलापन बढ़ने से पीठ से जुड़ी समस्याओं के भी छुटकारा मिल जाता है।

 

उष्ट्रासन विधि

  • उष्ट्रासन करने के लिए पहले घुटनों के सहारे आराम से बैठिए।
  • उसके बाद धीरे से पीछे की ओर झुकते हुए अपने हाथों से एड़ियों को पकड़ लीजिए।
  • जिनका आपके लिए आरामदायक हो उतना पीछे की ओर झुकें।
  • जांघों में खिंचाव महसूस होने पर आप अपने सिर को पीछे की ओर झुका दीजिए।
  • इस अवस्था में जांघों को सीधा रखने का प्रयास करें ताकि आपकी रीढ़ पर खिचाव पड़े।
  • अंत में सिर को सीधा करते हुए धीरे-धीरे दोबारा पहले जैसी स्थिति में आ जाए।

 

  • शशांकासन

बाल झड़ने (hair fall) की समस्या को दूर करने के साथ शशांकासन तनाव (stress) को भी दूर करता है। इससे दिमाग शांत रहता है और थाॅयराइड व सायटिका जैसी बीमारियों से लड़ने में भी शरीर को सहायता मिलती है।

इस आसन को करना भी काफी आसान है। खरगोश मुद्रा के नाम से प्रसिद्ध यह योगासन भावनात्मक रूप से (emotionally) पीड़ित रोगियों के लिए वरदान से कम नहीं है।

 

शशांकासन विधि

  • इस आसन को करने के लिए आप वज्रासन की तरह घुटनों पर बैठ जाएं।
  • उसके बाद धीरे से सांस को लेते हुए हाथों को आसमान की ओर उठाएं।
  • सांस को छोड़ते हुए आगे की ओर झुक जाएं और हाथों को जमीन से लगाएं।
  • इस मुद्रा में हाथों को सामने की ओर खीचें और कमर को सीधा रखने की कोशिश कीजिए।
  • आखिर में सांस लेते हुए सीधे होकर बैठ जाएं और दोबारा प्रक्रिया को दोहराएं।

 

  • अधोमुख शवासन

अधोमुख शवासन से नए बालों का आना तीव्रता से शुरू हो जाता है। इससे आपका चेहरा भी पहले से निखर जाता है। शरीर की थकान को मिटाने के लिए यह आसन बहुत फायदेमंद है।

इस आसन से पूरे शरीर में रक्त का प्रवाह तेज हो जाता है। यह काफी उपयोगी योगासन है, इस एक आसन से ही आपको कई लाभ मिलते हैं। 

 

अधोमुख शवासन 

    • इस आसन को करने के लिए आप पहले सीधा खड़ा हो जाए और सामने की ओर झुक कर दोनो हाथ जमीन से लगा दें।
    • ध्यान रहें आपके हाथों और पैरों के बीच की दूरी समान हो। 
    • सांस को आराम से छोड़ते हुए अपनी कमर को सीधा कर अपनी ऐड़ियों को जमीन से लगाने का प्रयास करें। 
    • इसमें आपके शरीर की अवस्था एक त्रिभुज की तरह प्रतीत होगी। 
    • इस योगासन के दौरान नाभि पर ध्यान लगाए रखना होता है। 

     

    इसे भी पढ़ें:-Cyber Crime..10 तरीकों से हो रहा बैंक खातों से पैसा चोरी

     

    ज्यादातर योगासन को खाली पेट (empty stomach) ही करना चाहिए। लेकिन ऊपर बताए गए पांच योगासनों में से वज्रासन को आप खाना खाने के बाद भी कर सकते हैं।

    इससे पाचन प्रक्रिया तेज हो जाती है। साथ में आपको बाल झड़ने (hair fall) की समस्या से भी छुटकारा मिल जाता है।

    योग एक ऐसी चीज है जिसे करने से आपको व आपके शरीर को किसी भी तरह का नुक्सान नहीं होता।

    लेकिन यदि आपको किसी प्रकार की पीठ से जुड़ी गंभीर दिक्कत है तो आप उष्ट्रासन, उत्तानासन और अधोमुख शवासन को न करें या फिर की देख रेख में सहायता लेकर ही करें।

    वज्रासन और शशांकासन काफी सरल योगासन है, इसे कोई भी कर सकता है।

    यदि आपको हमारी दी गई जानकारी अच्छी लगी तो हमारे Moneysarthi Facebook को लाइक और फॉलो करें

    । और हां! इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपनों के साथ शेयर करना न भूलें।

    || जय हिंद ||

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *