Elon Musk kaise itne ameer ho rahe hain ?

Elon Musk – मेरा नाम सौरभ है, काफी समय के बाद मैं आज आपके लिए लेकर आया हूँ एक अलग ही किस्म की जानकारी जिसे सोचकर सोचकर लोगों का दिमाग फटा जा रहा है कि ऐसा क्यों और कैसे हो रहा है ?

हम Information Age में जी रहे हैं, जिसके बारे में मैं आपको कई बार अपने पिछले आर्टिकल्स में बता चुका हूँ। ये Age पिछले Age यानी कि Industrial Age की तुलना में एकदम अलग है।

इसलिए आपको दुनिया के टॉप 10 अमीरों की लिस्ट में अधिकतर ऐसे चेहरे मिल रहे हैं जो कि कहीं न कहीं information का इस्तेमाल करके अपने बिजनेस को ऊँचाइयों तक पहुंचाने में बहुत कम समय में सक्षम हो पाए हैं।

आज के समय में अमीर होना बहुत आसान है, ज़रूरत है तो सिर्फ सही Financial Education की।

Covid के बाद दुनिया पहले की तुलना में ज़्यादा ही बदल गई है। अमीर और तेजी से अमीर हो रहे हैं जबकि गरीबों के पास भुखमरी की हालत आ चुकी है। क्या आपने सोचा है कि ऐसा आखिर हो क्यों रहा है ?

Business world

 

चलिए समझते हैं नीचे दिए गए कुछ टॉपिक्स के माध्यम से :
 

#1 – Corporation

 
पिछले साल जब Covid ने दुनिया में दस्तक दी तो कई बड़े छोटे बिजनेस धराशाही हो गए, कारण डिमांड और मैनपावर को कमी। और ऐसा सभी के साथ हुआ, चाहे वो छोटा बिजनेस हो या बड़ा। ऐसी स्थिति हो जाने पर कोई भी बिजनेस चालू रहे उसके लिए एक चीज़ सबसे ज़्यादा ज़रूरी होती है और वो चीज़ है पूँजी।

छोटे बिजनेस समय बीतते जाने के साथ बंद होते चले गए। जैसे जैसे उनकी पूँजी ख़त्म होती गई वैसे वैसे ये बंदी चालू रही। बड़े बिजनेस जिनके पास ज़्यादा पूँजी होती है, उन्होंने अपने पैर जमाये रखे और जैसे ही मार्केट खुला या कहें चीज़े Normal होना शुरू हुई, उन्होंने पहले से 10 गुना तेजी से बढ़त बनानी शुरू कर दी।

देखिये ये तो हुई आम अवधारणा जिसे कोई भी साधारण आदमी आपको बता सकता है लेकिन इसके पीछे एक और पहलु है जिसके बारे में अधिकतर लोग नहीं जानते और वो है Corporation की ताकत।

जब कभी भी कोई ऐसी वैश्विक समस्या आती है तो बड़े बड़े बिजनेस इन Corporations के पीछे छिपकर सुरक्षित हो जाते हैं।
 

Example

 
उदाहरण के तौर पर World Bank. कैसे ? मान लीजिये आप एक बड़े बिजनेस के मालिक हैं जिसे आपने आईपीओ के माध्यम से पब्लिक भी कर दिया है। अब होता कुछ ऐसे है कि जब ऐसी कोई वैश्विक समस्या आती है तो उस देश की सरकार को इन बिजनेस को सब्सिडी देनी पड़ती है ताकि जब उस सरकार को अपने देश की ज़रूरत के लिए पैसे चाहिए हो तो World Bank से आसानी से मिल जाये।

अगर सरकारें इन बड़े बिजनेस को नहीं संभालेंगी तो कर्ज कहाँ से लेंगी। आखिर World Bank ख़ुद में कोई बैंक नहीं हैं, बल्कि बड़े बड़े बिजनेसमैनों का समूह है जो देशों को कर्ज देने का काम करता है।

तो इस तरह बड़े बिजनेस को सरकारें खुद ही बचाती हैं जबकि छोटे बिजनेस नेस्तोनाबूत हो जाते हैं।
 


 

#2 – Cashflow

 
जब सरकारें बड़े बिजनेस को बचाये रखने के लिए पूँजी निवेश कर रही होती हैं, ठीक उसी समय छोटे बिजनेस ख़त्म हो रहे होते हैं मगर डिमांड में उस अनुपात में कमी नहीं आती।

उपभोक्ता को भले ही पहले से कम मगर सामान तो चाहिए ही होता है, तो ऐसे में इन बड़े बिजनेस को और भी अधिक ग्राहक मिलना शुरू हो जाते हैं क्योंकि उनके कई छोटे छोटे प्रतिस्पर्धी ख़त्म हो चुके होते हैं। सारा पैसे जो पहले कई लोगों में बट जाता था अब वो एक इंसान की तरफ बहना शुरू कर देता है।

 

#3 – Labour Law

 
भारत दुनिया के तमाम देशों में पहले कुछ पायदान पर उभर कर आया जिसने अपने यहाँ Labour Law ही ख़त्म कर दिए। जिसे देखकर ऐसा मालूम पड़ता है कि जैसे पहले से ही तैयारी किये बैठे थे।

ये कदम भी बड़े बिजनेस को बचाये रखने के लिए उठाया गया ताकि उनकी क्षमता पर कोई फर्क ना पड़े क्योंकि उनकी कमाई बढ़ने वाली थी।

ऐसा करने के कारण कर्मचारियों को जो कुछ हक़ प्राप्त थे ताकि उनका शोषण ना हो सके वे सब भी ख़त्म कर दिए गए।

Corporations को ताकत दे दी गई कि वे जितना चाहे और जैसे चाहे काम ले सकते हैं अपने कर्मचारियों से। यदि कोई टेलीकॉम सेक्टर से होगा तो उसे इस दर्द का एहसास सबसे ज़्यादा मालूम पड़ रहा होगा। Company ने कोई कसर नहीं छोड़ी अपने कर्मचारियों का शोषण करने में।

 

इसे भी पढ़ें:-How to Increase Business? – Top 5 Strong Techniques
 

Elon Musk दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति कैसे बने ?

 

यदि आप मेरी ऊपर बताई गई बातों पर ध्यान देंगे तो पाएंगे की Elon Musk खुद Information Age का नेतृत्व कर रहे हैं। चाहे वो SpaceX हो, Tesla हो, Neuralink हो या फिर Starlink प्रोजेक्ट। हर एक चीज़ Information Based है।

 

“अमीर बनने के लिए लोग बिजनेस करते हैं, जबकि बहुत अमीर बनने के लिए आपको बिजनेस बेचना पड़ता है।”

 

मतलब ?

 

मतलब ये है कि पहले अपने सपने पर काम कीजिये जो दूसरों की जटिल समस्याओं को हल करता है फिर जब वो हिट हो जाये तो उसे Share market में उतार दीजिये। आप बहुत अमीर हो चुके हैं।

 

इसे भी पढ़ें:-Best Trading App in India in Hindi

 

ये होता कैसे है ? मैं आपको समझाता हूँ।

 
मान लीजिये आपने एक ऐसा Product बनाया या फिर कोई ऐसी Service शुरू की जो कि लोगों की समस्या का समाधान है, वो अपने आप बिकना शुरू हो जाती है। आपका सालाना Turnover बढ़ता जाता है। इसी के साथ आप अपनी कंपनी का Evolution कराते चलते हैं।

जब कोई Business तेजी से आगे बढ़ता है तो उस कंपनी की कीमत अपनी लागत से कोसों दूर निकल चुकी होती है और ये सबसे बड़ा Investment है।

जब Robert Kiyosaki कहते हैं कि एक इन्वेस्टर ज़ीरो टैक्स देता है तो उनका इशारा इस तरफ ही है। कंपनी की मार्किट वैल्यू बढ़ने पर कोई टैक्स नहीं लगता। 1 लाख रूपए से शुरू की गई कंपनी 5 साल बाद 1 हजार करोड़ की हो जाती है। इस वैल्यू के बढ़ने का कोई टैक्स नहीं देना होता।

इसलिए इन्वेस्टर ज़ीरो टैक्स देते हैं। अब आप को करना ये है कि इस वैल्यू के 25% हिस्से को शेयर मार्केट में बेचने के लिए रजिस्टर कर देना है। एक कंपनी जिसकी खुद में वैल्यू 1000 करोड़ है उसके 25% हिस्से को लोग ऊँची बोली लगाकर खरीदना चाहते हैं। फिर आप पैसे से पैसा कमाते हैं। और बहुत अमीर हो जाते हैं।

Elon Musk के साथ भी ऐसा ही हुआ, पहले उन्होंने Tesla पर जमकर काम किया। समय के साथ साथ प्राकृतिक संसाधन कम हो रहे हैं और लोगों को परिवहन के लिए दूसरे विकल्प की तलाश होगी ही।

धीरे धीरे कंपनी की वैल्यू खुद ही बढ़ती रही। फिर एक दिन Elon musk ने इस कंपनी को पब्लिक कर दिया और वे दुनिया के सबसे अमीर इंसान बन गए।

 

इसे भी पढ़ें:-Share market Kya hai और शेयर मार्केटिंग कैसे करें

 





 
Share market बढ़ने का कारण और प्रभाव

 
भारत में जब कभी अर्थव्यवस्था की बात होती है तो उसके पैमाने के तौर पर लोग Sensex देखने लगते हैं। सेंसेक्स में दिखने वाले आंकड़े क्या होते हैं ? ये उस Share market में रजिस्टर कंपनियों की कुल Networth होती है।

यदि वो बढ़ता हुआ दिखता है तो इसका मतलब अर्थव्यवस्था अच्छे से चल रही है।

 

जी नहीं! जबकि हो इसका उल्टा रहा है। कैसे ?

 

जैसा कि मैंने पहले बताया कि सरकारें बड़े Business को Subsidy देती हैं जबकि छोटे Business ख़त्म हो जाते हैं। अब सारा पैसा इस बड़े बिजनेस की तरफ बहना शुरू हो जाता है जो पहले कई छोटे छोटे बिजनेस के माध्यम से अधिकम लोगों में बंट जाया करता था।

ये बड़े बड़े बिजनेस जो Share market  में रजिस्टर हैं उनकी Networth बढ़ रही है और कमाल की बात ये है कि इन बड़े बड़े Business को देश के वही 1% लोग चलाते हैं जिनके पास पहले से ही देश की 70% दौलत मौजूद है। तो इस तरह से जो बचा हुआ 30% पैसा है वो भी इन 1% लोगों की तरफ बहना शुरू हो गया है। इसी प्रक्रिया की वजह से अमीर और अमीर हो रहे हैं जबकि गरीब और गरीब।
 
धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *